Ka Kha Ga Gha in Hindi ( क , ख , ग, घ )

Ka Kha Ga Gha ( क , ख , ग, घ ) :-  Ka Kha Ga Gha आज हम आपको इसके बारें में बतायेगें । Ka Kha Ga Gha ( क , ख , ग, घ )  इनको हम अपने हिन्दी भाषा में व्यंजन बोलते हैं । जो कि स्वर के माध्म से बोला जाता हैं। अब आप सोच रहें होगें कि यह स्वर ओर व्यंजन क्या होता हैं तो निश्चिंत रहिए हम आपको आज इसकी पूरी जानकार देने वाले हैं।

Swar ( स्वर ) :- स्वर उन वर्णों को कहते हैं, जिनका उच्चारण विना अवरोध अथवा विघ्न-वाधा के होता है, स्वर ( Swar ) कहलाते हैं।। इनके उच्चारण में किसी दूसरे वर्ण की सहायता नहीं ली जाती। ये सभी स्वतंत्र हैं। इनके उच्चारण में भीतर से आती हुई वायु मुख से निर्बाध रूप से निकलती है। सामान्यतः इसके उच्चारण में कंठ, तालु का प्रयोग होता है, जीभ, होंठ का नहीं। पर, उ, ऊ के उच्चारण में होठों का प्रयोग होता है। हिंदी में स्वर वर्णों की संख्या ग्यारह है।

मूल स्वर- अ आ इ ई उ ऊ ऋ ए ऐ ओ औ
मात्रारूप- ा ि ी ु ू ृ े ै ो ौ
क का कि की कु कू कृ के कै को कौ

Vyanjan ( व्यंजन ) :- व्यंजन वे हैं, जिनका उच्चारण स्वरों की सहायता से होता है। प्रत्येक व्यंजन के उच्चारण में ‘अ’ की ध्वनि छिपी रहती है। ‘अ’ के बिना व्यंजन का उच्चारण संभव नहीं, जैसे-क् + अ = क, ख + अ = ख। व्यंजन वह ध्वनि है, जिसके उच्चारण में भीतर से आती हुई वायु मुख में कहीं-न-कहीं, किसी-न-किसी रूप में, बाधित होती है। स्वर वर्ण स्वतंत्र और व्यंजनवर्ण स्वर पर आश्रित हैं। हिंदी में Vyanjan ( व्यंजन ) मूल वर्णों की संख्या 33 है।

Ka Kha Ga Gha ( क , ख , ग, घ ) Hindi Alphabets

ण, ड़, ढ़
क्षत्रज्ञ

Ka Kha Ga Gha ( क , ख , ग, घ ) वाक्य प्रयोग

क- काला

ख- खम्बा

ग- गोली

घ- घर

ङ- रंग

च- चाचा

छ- छापा

ज- जागीर

झ- झरना

ञ- चञ्चल

ट- टेक

ठ- ठुमका

ड- डमरू

ढ- ढक्कन

ण, ड़, ढ़- भाषण, लड़का, ढ़ोल

त- तराजु

थ- थरमस

द- दरवाजा

ध- धरती

न- नौकर

प- पतंग

फ- फूफा

ब- बकरी

भ- भरना

म- मनुष्य

य- यज्ञ

र- राम

ल- लट्टू

व- वन

श- शलजम

ष- षडयंत्र

स- सरकार

ह- हल

क्ष- क्षत्रिय

त्र, ज्ञ- त्रिकोण, ज्ञानी

उच्चारण की दृष्टि से कैसे Ka Kha Ga Gha ( क , ख , ग, घ ) Hindi Alphabets को वर्गीकृत किया गया समझते हैं-

आधुनिक हिंदी की वर्णमाला
कवर्ग क़ ख़ ग़ कण्ठ से बोले जानेवाले
चवर्ग ज़ तालू से बोले जानेवाले
टवर्ग ड़ ढ़ मूर्धा से बोले जानेवाले
तवर्ग दंत्त से बोले जानेवाले
पवर्ग फ़ ओष्ठ से बोले जानेवाले
यवर्ग हवा रोक के बोले जानेवाले
शवर्ग हवा छोड़के बोले जानेवाले
संयुक्त क्ष त्र ज्ञ दो व्यंजन साथ में बोले जानेवाले

Ka Kha Ga Gha ( क , ख , ग, घ ) बारहखड़ी ( barakhadi in hindi )

अंअः
ि
काकिकीकुकूकेकैकोकौकंकः
खाखिखीखुखूखेखैखोखौखंखः
गागिगीगुगूगेगैगोगौगंगः
घाघिघीघुघूघेघैघोघौघंघः
चाचिचीचुचूचेचैचोचौचंचः
छाछिछीछुछूछेछैछोछौछंछः
जाजिजीजुजूजेजैजोजौजंजः
झाझिझीझुझूझेझैझोझौझंझः
टाटिटीटुटूटेटैटोटौटंटः
ठाठिठीठुठूठेठैठोठौठंठः
डाडिडीडुडूडेडैडोडौडंडः
ढाढिढीढुढूढेढैढोढौढंढः
णाणिणीणुणूणेणैणोणौणंणः
तातितीतुतूतेतैतोतौतंतः
थाथिथीथुथूथेथैथोथौथंथः
दादिदीदुदूदेदैदोदौदंदः
धाधिधीधुधूधेधैधोधौधंधः
नानिनीनुनूनेनैनोनौनंनः
पापिपीपुपूपेपैपोपौपंपः
फाफिफीफुफूफेफैफोफौफंफः
बाबिबीबुबूबेबैबोबौबंबः
भाभिभीभुभूभेभैभोभौभंभः
मामिमीमुमूमेमैमोमौमंमः
यायियीयुयूयेयैयोयौयंयः
रारिरीरुरूरेरैरोरौरंरः
लालिलीलुलूलेलैलोलौलंलः
वाविवीवुवूवेवैवोवौवंवः
शाशिशीशुशूशेशैशोशौशंशः
सासिसीसुसूसेसैसोसौसंसः
षाषिषीषुषूषेषैषोषौषंषः
हाहिहीहुहूहेहैहोहौहंहः
क्षक्षाक्षिक्षीक्षुक्षूक्षेक्षैक्षोक्षौक्षंक्षः
त्रत्रात्रित्रीत्रुत्रूत्रेत्रैत्रोत्रौत्रंत्रः
ज्ञज्ञाज्ञिज्ञीज्ञुज्ञूज्ञेज्ञैज्ञोज्ञौज्ञंज्ञः
श्रश्राश्रिश्रीश्रुश्रूश्रेश्रैश्रोश्रौश्रंश्रः

Leave a Comment